Enter your email address: कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई भी अवश्य करें

कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई करें

बाल्मीकि रामायण तथा तुलसीदास जी द्वारा रचित रामचरितमानस में क्या अंतर है – दोस्तों नमस्कार indohindi.in पर आप सभी का स्वागत है आज हम आपके लिए जरूरी जानकारी लेकर आए हैं आपने कई बार सुना होगा बाल्मीकि रामायण कथा तुलसीदास जी द्वारा रचित रामचरितमानस के बारे में तो आपके मन में भी सवाल अवश्य ही आया होगा आखिर अंतर क्या है दोनों में दोनों ही राम के जीवन पर आधारित हैं तो आज हम आपका डाउट क्लियर कर देते हैं। ramayan aur ramcharitmanas me antar ramayan katha

ramayan aur ramcharitmanas me antar

वैदिक काल से लेकर आधुनिक काल तक तमाम लेखकों ऋषि यों ने एक अनुमान के मुताबिक 300 से ज्यादा रामायण जैसे ग्रंथों की रचना की है केवल भारत ही नहीं अपितु पूरी दुनिया में ऐसे रचयिता हुए हैं लेकिन इनमें से दो प्रचलित हैं बाल्मीकि रामायण तथा तुलसीकृत रामचरितमानस इन दोनों ग्रंथों मैं राम के चित्र चरित्र की संपूर्ण व्याख्या की गई है अब हम आपको दोनों में अंतर बताते हैं । ramayan aur ramcharitmanas me antar ramayan katha

बाल्मीकि रामायण Valmiki Ramayana

बाल्मीकि रामायण – जैसा की आप सबको पता होगा कि पहले एक डाकू अंगुलिमाल हुआ करता था जो कि लोगों को लूट कर उनकी उंगलियां भी काट कर गले में माला पहनता था लेकिन हृदय परिवर्तन होने के बाद वही डाकू महर्षि वाल्मीकि के रूप में जाने जाते हैं वही महर्षि वाल्मीकि जिन्होंने माता सीता को अपने आश्रम में आश्रय दिया था और उन्होंने रामायण जैसे एक महाकाव्य की रचना की थी बाल्मीकि रामायण को एक अनुमान के मुताबिक 600 ईसा पूर्व रचा गया था इस महाकाव्य में 24000 श्लोक 500 सर्ग तथा सात कांड हैं इसमें राम के चरित्र को काफी आसान भाषा में समझाया गया है लेकिन इसमें सबसे खास बात यह है कि वाल्मीकि रामायण में राम को साधारण मानव के रूप में चित्रित किया गया है साधारण मानव के रूप में व्याख्या की गई है इसमें बताया गया है कि कैसे एक बालक का जन्म राजा दशरथ के यहां होता है वह बड़े होने पर गुरुकुल में शिक्षा के लिए जाते हैं तथा गुरु आज्ञा सर्वोपरि माना है तथा अपने वचन के लिए प्राण न्योछावर करने वाला बताया गया कैसे उन्होंने अपने सुखों की आहुति देकर पिता की आज्ञा मानकर बन जाने की सहमति दी वाल्मीकि रामायण में राम को देवी शक्ति या फिर अवतारी पुरुष नहीं बताया है उनकी संपूर्ण व्याख्या एक साधारण मानव के रूप में की गई है ना केवल राम बल्कि रामायण के हर एक पात्र को चाहे भरत शत्रुघ्न लक्ष्मण या फिर विभीषण जैसा भाई केकई और मंदोदरी जैसी पत्नी तथा हनुमान जैसा मित्र या फिर दशरथ जैसे पिता सभी के चरित्र को सशक्त तथा प्रेरणा स्त्रोत के रूप में प्रस्तुत किया गया है । ramayan aur ramcharitmanas me antar ramayan katha

तुलसीकृत रामचरितमानस Ramcharitmanas

तुलसीकृत रामचरितमानस – 16 वीं शताब्दी में रची गई तुलसीकृत रामायण तुलसीदास तुलसीदास जी द्वारा रचित रामचरितमानस को महर्षि वाल्मीकि रामायण को आधार मानकर इसकी रचना की गई थी तुलसीकृत रामचरितमानस को अवधी भाषा में लिखा गया था तुलसीकृत रामचरितमानस की खास बात यह है इसमें एक भक्त का अपने आराध्य के प्रति प्रेम तथा समर्पण दिखाया गया है तथा तुलसीकृत रामचरितमानस में राम को भगवान विष्णु के अवतार के रूप में प्रस्तुत किया गया है चित्रित किया गया कैसे भगवान विष्णु ने मनुष्य अवतार लेकर मनुष्य की सारी मर्यादाओं को निभाया है इसमें राम के चरित्र को महाशक्ति तथा महानायक के रूप में दिखाया गया है। ramayan aur ramcharitmanas me antar ramayan katha

बाल्मीकि रामायण तथा तुलसीकृत रामचरितमानस में मुख्य अंतर ramayan katha

बाल्मीकि रामायण तथा तुलसीकृत रामचरितमानस में मुख्य अंतर – रामायण तथा रामचरितमानस में मुख्य अंतर पात्रों के चरित्र चित्रण का है जहां रामायण में उनको साधारण मानव तथा प्रेरणा स्त्रोत बताया गया है वही तुलसीकृत रामचरितमानस में दैवीय शक्ति से युक्त मानव रूप में जन्मे मानवीय मर्यादाओं को मानने वाला बताया गया है महर्षि वाल्मीकि के राम मानवीय भावनाओं के संतुलित रूप हैं तो वहीं बाबा तुलसी के राम मर्यादा पुरुषोत्तम हैं लेकिन दोनों ग्रंथों की रचना के आधार राम ही हैं तुलसीदास जी ने महर्षि वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण को ही आधार मानकर रामचरितमानस की रचना की है। ramayan aur ramcharitmanas me antar ramayan katha

लेकिन सच्चाई यह है कि राम के दोनों ही रूप पूजनीय तथा वंदनीय हैं इनसे हर मनुष्य को प्रेरणा लेनी चाहिए।

arthik azadi A नाम वाले लोग cbi and cid difference in hindi cross selling DigiLocker DigiLocker in hindi esic के फायदे esic क्या है fashion Impulse Items liver in hindi lord ganesh on indonesia currency mens underwear type in hindi naam ke anusar bhavishya PLU CODES ramayan aur ramcharitmanas me antar ramayan katha retail in hindi r नाम वाले लोग stylish mens underwear types of income in hindi up-selling cross selling What Do The Numbers On Fruit Stickers Mean what is CBI what is CID अंकुरित आलू खाने के नुकसान आखिर फलों के ऊपर स्टिकर क्यों लगे होते हैं इक्विटी फंड कवि अमन अक्षर कविता कस्टमर तथा कंजूमर में क्या अंतर होता है क्यों इंडोनेशिया के नोटों पर भगवान गणेश की फोटो होती है जेनेरिक दवा क्या है नाम वाले व्यक्ति पुरुषों के अंडरवियर कितने प्रकार के होते हैं पैसा छापने के नियम फास्ट फूड और जंक फूड के बीच का अंतर मुरारी बापू के विचार म्यूचुअल फंड म्यूचुअल फंड के प्रकार राम के सभी पूर्वजों के नाम वाहिद अली वाहिद शायरी हिंदू धर्म हिंदू धर्म में सोलह संस्कार

Enter your email address: कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई भी अवश्य करें

कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here