Sadhguru Hindi
Sadhguru Hindi Sadhguru Hindi, Sadhguru,

Enter your email address: कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई भी अवश्य करें

कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई करें

सद्गुरु जेएसएस इंस्टीट्यूट ऑफ नेचुरोपैथी एंड योगिक साइंसेस, कोयंबटूर में यह बता रहे हैं कि जब मानव प्रणाली के भीतर सृजन का स्रोत है, तो शरीर भीतर से आने वाली किसी भी समस्या को ठीक करने में सक्षम होता है। वे अपने स्वयं के जीवन का एक उदाहरण बताते हैं जब उन्होंने यह देखा, और उन्होंने अपने फ्रैक्चर पैर को ठीक कर लिया। sadhguru quotes

अपनी बीमारी खुद कैसे ठीक करें? Sadhguru Hindi

स्वास्थ्य बहुत मजेदार चीज है जिस तरह आज दुनिया में उसे समझा जाता है हेल्थ प्रोटेक्शन बहुत कम है सिर्फ मेडिकल प्रोफेशन मौजूद है लोग मेडिसन सीखते हैं स्वास्थ्य नहीं करीब 15000 साल पहले जॉब आदियोगी हिमालय के ऊपरी इलाकों में प्रकट हुए जब लोगों ने उनसे जीवन का मार्ग जाने की कोशिश की तो उन्होने जो पहली चीज सिखाई और सबसे मूलभूत चीज सिखाइ उसे आज भूत शुद्धि कहा जाता है यानी शरीर के भीतर पांच तत्वों की सफाई भूत शुद्धि अगर सही तरीके से की जाए तो उससे भूत सिद्धि या पांच तत्वों पर महारत हासिल हो सकती है । Sadhguru Hindi भगवान राम पर सुंदर कविता bhav suchiya bahut hai bhav sirf…

यह इस समस्या आता है यह आधार से आता है कि अगर आप एक साफ-सुथरी इमारत बनाना चाहते हैं तो आपको बस निर्माण सामग्री का ठीक से ध्यान रखना होगा अगर निर्माण सामग्री शुद्ध नहीं है उसकी गुणवत्ता अच्छी नहीं है तो जो इमारत आप बनाएंगे जो ढांचा बनाएंगे बो घटिया क्वालिटी का होगा यह खुशाली की तकनीकें क्योंकि हमने कभी शरीर को अपना पूरा जीवन नहीं माना हमने हमेशा शरीर को ऐसी चीज के रूप में देखा जिसे किसी क्षण हम छोड़ देंगे खुशाली कि हमारी भावना जीवन की भौतिकता तक सीमित नहीं थी इसलिए फोकस हमेशा आंतरिक खुशाली पर था । Sadhguru Hindi sadhguru quotes

जो कुदरती रूप से एक इंसान की भौतिक खुशाली को प्रेरित करेगा इसलिए मैं लोगों से पूछता रहता हूं अगर आपको अपने शरीर से कोई परेशानी है तो सबसे पहले यह समझे कि शरीर कहां से बना है अगर आप केला खाते हैं यह केला अंदर जाकर एक इंसान बन जाता है तो इसमें एक किस्म की समझदारी और गुण और क्षमता है जो केले से इंसान बनाने में सक्षम है तो इस शरीर का सृजन अंदर से ही होता है । जानिए 12 ज्योतिर्लिंग के नाम और स्थान कहां कहां स्थित है…

sadhguru quotes

जब यह शरीर अंदर से बना है जब यह शरीर अंदर से बना जब हम जानते हैं कि शरीर के सर्जन का स्त्रोत ही हमारे अंदर है अगर आपको मरम्मत करनी होगी तो आप निर्माता के पास जाना चाहेंगे या लोकल मैकेनिक के पास अधिकांश लोग लोकल मकैनिक के पास जाने का चुनाव करते हैं वह इसलिए नहीं की वह यही करना चाहते हैं वह इसलिए क्योंकि वह निर्माता तक पहुंचने का रास्ता भूल गए वह बुनियादी ढांचा जो शारीरिक और मानवीय दोनों अर्थों में आंतरिक खुशहाली की इस तकनीक को लोगों तक पहुंचाने के लिए जरूरी है दुर्भाग्य से देश में पिछले 200 से 300 सालों के विदेशी राज में नष्ट हो गई है । Sadhguru Hindi

जहां भी मानव आबादी रहती थी ऐसी जगह थी जहां औषधी थी और लोगों को बस वहां तक पहुंचना होता था उन्हें किसी दुकान में जाकर उसे खरीदना नहीं होता था उन्हें किसी के इलाज के लिए जरूरत नहीं थी क्योंकि लगभग हर कोई जानता था कि खुद के साथ क्या करना है आप अपनी दादी के बारे में जानती थी और आज भी मौजूद है उन्हें हर छोटी चीज के लिए गोली या इंजेक्शन या कुछ और की जरूरत पड़ती है दादी 50 साल में ही बदल गया Sadhguru Hindi आदि से अनंत तक बस यही रही है परंपरा कायर भोगे दुख सदा…

Sadhguru Hindi और उन्होंने अपने फ्रैक्चर पैर को ठीक कर लिया।

यह घटना तब की है जब 20 साल का था 1 दिन में फील्ड हॉकी खेल रहा था और मैंने अपना टखना तोड़ लिया मैं जानता था कि हड्डी टूटना क्या होता है क्योंकि उस समय तक मैं कई बार उसे तुड़वा चुका था इसलिए मुझे जानने के लिए किसी डॉक्टर की जरूरत नहीं थी कि यह हड्डी टूट गई जब कोई हड्डी टूटी थी तो मैं जानता था कि वह टूट गई तो मेरा टकना सूज रहा था

और मैं लगड़ाते हुए मैदान के किनारे जाकर बैठ गया बाकी लड़के अभी खेल रहे थे और वह बहुत धूल उड़ा रहे थे मैं तेज दर्द में वहां बैठा था और मेरा पैर छू चुका है और स्थूल और दर्द के कारण मैं किसी तरह सांस नहीं ले पा रहा था और मेरा दम घुट रहा था मैं कुछ देर तक सांस नहीं ले पाया और और सांस के लिए तड़प रहा था मैं सांस लेने के लिए संघर्ष कर रहा था सांस के लिए हाफ रहा था उस समय तक मैं ध्यान करता था और चीजें करता था Sadhguru Hindi

और अचानक मेरे दिमाग में यह बात आएगी अगर सृष्टि का स्त्रोत ही मेरे भीतर है तो ऐसा क्यों है कि मैं छोटी सी सांस को ठीक नहीं कर पा रहा ऐसा क्यों है कि मैं इस टूटी हड्डी को ठीक नहीं कर सकता मैं करीब सवा घंटा आंखें बंद करके वहां बैठा रहा और जब मैंने अपनी आंखें खोली तो मेरी सांस बिल्कुल ठीक थी और तब से वह बिल्कुल ठीक है और सबसे बढ़कर मेरी टूटी टांग पूरी तरह ठीक हो गई थी सूजन कम हो गई थी और वह ठीक ठाक था मैं मांसपेशियों में दर्द महसूस कर रहा था मगर मेरी हड्डी एकदम ठीक थी तो मुझे विश्वास नहीं हो रहा था मैं खड़ा हुआ और मुझे नहीं पता था कि वह मुझे सहारा देगा या नहीं मगर मैं ठीक था Sadhguru Hindi

sadhguru quotes फिर मैं अपनी मोटरसाइकिल पर आते हैं कि आपको बात करना पड़ता है जो मैंने किया और मैं ठीक था उसे वास्तव में आंखों पर ध्यान देना शुरू किया इंजीनियरिंग के रूप में मुख्य रूप से इसे आजमां इनर इंजीनियरिंग के के रूप में सिखा रहे हैं मुख्य रूप से उसी अनुभव से आया कि कोई शारीरिक चीज कोई बीमारी नहीं टूटी हुई हड्डी जैसी शारीरिक चीज सभा घंटे में पूरी तरह ठीक हो गई और मैं एकदम ठीक हो गया और इसी अनुभव से लैस होकर मैंने कई रूपों में अपने साथ प्रयोग करना शुरू कर दिया और कई नतीजों पर पहुंचा और आज उसे ही हम इन्हें इंजीनियरिंग प्रक्रिया के रूप में सिखा रहे हैं। Sadhguru Hindi

Enter your email address: कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई भी अवश्य करें

कृपया अपने ई-मेल इनबॉक्स मे वेरिफ़िकेशन लिंक पर क्लिक करें और सब्सक्रिप्शन को वेरीफाई करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here